Utility Software kya hai? जानिए हिन्दी में

नमस्कार दोस्तों, आज हम बात करने वाले हैं- Utility Software Kya hai? के बारे में। दोस्तों, जैसा कि हम सभी जानते हैं, कि कंप्यूटर के दो भाग होते हैं, जिन्हें हम Hardware और Software के नाम से जानते हैं। जैसा कि आपको पता है, हार्डवेयर कंप्यूटर के वह सभी Physical Part होते हैं, जिनसे मिलकर कंप्यूटर बना होता है। 

Utility Software kya hai? जानिए हिन्दी में

और जिन्हे हम आसानी से छू और देख सकते हैं। उदाहरण के लिए Keyboard, Mouse, Motherboard आदि। और सॉफ्टवेयर कोई Physical Part नहीं होते हैं, इसीलिए हम इन्हें स्पर्श नहीं कर सकते, सिर्फ महसूस और देख सकते हैं। 

दोस्तों आपको बता दे एक सॉफ्टवेयर जो की Programming Language में लिखा हुआ Instruction Set का एक Group होता है, जो हार्डवेयर में जान डालने का कार्य करता है।

इसे भी पढ़े: इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी क्या है? information technology in Hindi

जैसा कि हम जानते हैं, कि कंप्यूटर में सॉफ्टवेयर को दो भागों में बांटा गया है। 

  • एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर (Aplication Software)
  • सिस्टम सॉफ्टवेयर (System Software)

दोस्तों, Aplication Software के अंतर्गत वह सारे सॉफ्टवेयर आते हैं, जो किसी एक Specific काम को करने पूरा करने के उद्देश्य से बनएं गए हो, जैसे- VLC Media Player, Photoshop, MS Office आदि। 

वही बात करें System Software की तो यह कंप्यूटर के वे सॉफ्टवेयर होते हैं, जो कि कंप्यूटर के हार्डवेयर मैं जान डालकर उन्हें उपयोगकर्ताओं के लिए इस्तेमाल करने में आसान बनाने का काम करते हैं। या यूं कहें कि यह हार्डवेयर और उपयोगकर्ता के बीच एक इंटरफेस बनाने का काम करते हैं। सिस्टम सॉफ्टवेयर में Device Drive, Operating Sustem, Utility software आदि शामिल है।

दोस्तों, इन्ही System Software में से एक सॉफ्टवेयर जिसका नाम यूटिलिटी सॉफ्टवेयर है। आज हम इसी के बारे में बात करने वाले हैं। Utility सॉफ्टवेयर क्या होता है? इसके क्या-क्या फीचर्स है? इसके advantages क्या है? इन सभी विषयो के बारे में आज हम इस आर्टिकल में जानेंगे। तो अगर आप भी इस विषय में जानना चाहते हैं, तो इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें। 

दोस्तों, आपको बता दें यूटिलिटी सॉफ्टवेयर जिसे सामान्य तौर पर Utility के नाम से भी जाना जाता है। यहां एक ऐसा सिस्टम सॉफ्टवेयर है, जिसे इस तरह डिजाइन किया गया है, कि यह आपकी मदद कर सके, आपके कंप्यूटर को सुचारू रूप से चलाने उसे analyze, optimize, maintain, या configur करने में। 

इन सबके अलावा यह कंप्यूटर की परफॉर्मेंस को भी बढ़ाने  में आपकी मदद करता है। यह, एक ऐसा कंप्यूटर प्रोग्राम है, जो कि कुछ Specific task परफॉर्म करता है, और यह आपके सिस्टम Resources को Manage करने से संबंधित होते हैं। 

Utility Software क्या है?

दोस्तों, Utility Software या फिर Utility Program जिसे आमतौर पर यूटिलिटी के नाम से भी जाना जाता है, यह सिस्टम का एक ऐसा सॉफ्टवेयर होता है, जो कि आपके कंप्यूटर को ऑप्टिमाइज और मेंटेनेंस करने में मदद करता है। 

आपको बता दें यूटिलिटी सॉफ्टवेयर, सिस्टम सॉफ्टवेयर की श्रेणी में ही आता है। इसलिए कई सारे यूटिलिटी सॉफ्टवेयर ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ आते हैं। उदाहरण के लिए Disk Cleaner, Windows Defender, Disk Defender, Disk Maintance, और Resort Monitor आदि। 

इसके अलावा कई उपयोगकर्ता अपनी जरूरत के अनुसार भी Utility Software अलग से इंस्टॉल करते हैं। जिनमें Cleaner, Antivirus, आदि आते हैं। यूटिलिटी सॉफ्टवेयर को Utilities भी कहा जाता है।

दोस्तों, यूटिलिटीज कोई दूसरे एप्लीकेशन भी हो सकते हैं, जैसे Icon tools, Screen Saver, Sound या फिर Desktop Enhancements कुछ ऐसे यूटिलिटी प्रोग्राम से हैं, जो कि आपके कंप्यूटर को Unwanted सॉफ्टवेयर, Spyware या Vireses आदि से बचाने में मदद करते हैं। 

दोस्तों वही आसान भाषा में कहें तो यूटिलिटी सॉफ्टवेयर एक ऐसा प्रोग्राम है, जो कि आपके कंप्यूटर को और अधिक बेहतर बनाने और उसे सुचारू रूप से काम करने में आपकी मदद करता है। 

Utility Program क्या है?

दोस्तों, आपको बता दें Utility Program कंप्यूटर के किसी भी Operating System का एक हिस्सा हो सकते हैं, या किसी third party developers के कोई प्रोडक्ट यदि आप अपने कंप्यूटर मैं किसी प्रोग्राम को इंस्टॉल करना चाहते हैं, या कोई फाइल किसी दूसरे फोल्डर में move करना या फिर किसी documents को सर्च करना, तो इन सब चीजों में आपको किसी न किसी यूटिलिटी प्रोग्राम की जरूरत होती है। 

इसीलिए यूटिलिटी प्रोग्राम को एक स्पेशल सॉफ्टवेयर के तौर पर बनाया गया है। जो सिस्टम के ऑपरेटिंग सिस्टम की management, maintenance का सभी तरह से ख्याल रखता है। और कंप्यूटर सिस्टम की परफॉर्मेंस को बढ़ाता है। 

इतना ही नही आप यूटिलिटी सॉफ्टवेयर की मदद से अपने हाईड्राइव परफॉर्मेंस को भी ठीक कर सकते हैं, और इसी के साथ आपकी इंफॉर्मेशन को search display ड्राइव करने में भी आपकी मदद करता है। 

Utility Software और Application Software में अंतर

दोस्तों, जैसा कि हमने आपको बताया कि Software दो प्रकार के होते हैं- एक होता है एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर और दूसरा होता है- सिस्टम सॉफ्टवेयर और सिस्टम सॉफ्टवेयर के अंतर्गत यूटिलिटी सॉफ्टवेयर आता है, तो आइए जानते हैं, कि एप्लीकेशन सॉफ्टवेयरऔर  यूटिलिटी सॉफ्टवेयर में क्या अंतर है?

Utility SoftwareApplication Software
Application Software को Internet की सहायता से डाउनलोड किया जा सकता है।Utility Software कंप्यूटर में पहले से ही इनस्टॉल रहते हैं, या फिर Web के माध्यम से इन्हें Download किया जा सकता हैं। 
Application Software को User की सुविधा के अनुसार बनाया जाता है।Utility Software को Computer के साथ काम करने के लिए बनाया जाता है।
Application Software का Work और Size दोनों ही अधिक होते हैं।Utility Software का Work Fix होता है, और Size में भी ये अधिक नहीं होते हैं।
Application Software, ऑपरेटिंग सिस्टम का हिस्सा नहीं होता है, यह स्वतंत्र होते हैं। पर यह Operating System पर Depend रहते हैं। Utility Software, ऑपरेटिंग सिस्टम का हिस्सा होते हैं।
ज्यादातर Application Software Paid होते हैं, और इन्हें Internet की सहायता से कंप्यूटर में डाउनलोड करना पड़ता है।ज्यादातर Utility Software Free होते है। 
Application Software का इस्तेमाल हर कोई आसानी से कर सकता है। Utility Software का इस्तेमाल करने के लिए Technical Knowledge होना जरुरु है। 
MS Office, Application Software का एक अच्छा उदाहरण है।Anti – Virus, Utility Software का एक अच्छा उदाहरण है। 

तो दोस्तों, यह थे एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर और यूटिलिटी सॉफ्टवेयर में अंतर। आइए अब हम जानेंगे यूटिलिटी सॉफ्टवेयर के प्रकार-

Utility Software के प्रकार

दोस्तों, अगर बात करे यूटिलिटी सॉफ्टवेयर के प्रकार की, तो यह बहुत प्रकार के हो सकते हैं। लेकिन आज हम कुछ महत्वपूर्ण सॉफ्टवेयर के बारे में जानेंगे। 

1. File Management Programs

अगर बात करें File Management Programs की तो इस तरह के प्रोग्राम्स का इस्तेमाल विभिन्न प्रकार की files को organize करने के लिए किया जाता है। आपको बता दें, कंप्यूटर मेमोरी में कई प्रकार के डाटा से होते हैं। जिसका मैनेजमेंट फाइल मैनेजर प्रोग्राम्स द्वारा किए जाता हैं। 

यह प्रोग्राम उपयोगकर्ता को data से जुड़े किसी भी कार्य को करने की सुविधा प्रदान करता है।  उदाहरण के लिए फाइल को save और delete करना, फाइल में डाटा को edit करना और उसकी location बदलना, rename करना आदि। 

आपको बता दें, उपयोगकर्ता अपनी फाइल्स की सुरक्षा को लेकर जरूर concern होंगे, इसलिए वे चाहे तो अपनी फाइल को block कर सकते हैं, एक login procedural के माध्यम से। जिससे की इसे केवल वही लोग access कर पाएंगे जिनके पास फाइल को एक्सेस करने का user name और password होगा। 

ये प्रोग्राम उपयोगकर्ता को यह सुविधा प्रदान करते हैं, जिससे कि वह फाइल hierarchy को एक्सेस कर सके जिससे कि यूजर बहुत ही आसानी से स्पेसिफिक डाटा को ढूंढ कर काम कर सके। वही देखा जाए तो लगभग सभी फाइल मैनेजर search tool यहां सुविधा उपलब्ध करवाते हैं, ताकि सर्च टूल की मदद से यूजर तेजी से अपने काम की फाइल या फोल्डर को खोज पाए। 

दोस्तों, फाइल प्रोग्राम को organizer रूप से स्थापित करने के लिए उन्हें किसी एक storage location में store करना बहुत जरूरी होता है। इन सबके अलावा एक search function भी बहुत जरूरी है, जिससे की एक particular फाइल को आसानी से ढूंढा जा सकता है। और इसके लिए आप इंटरनेट से search Utility Software को डाउनलोड कर सकते हैं। 

2. File Compression Programs

अगर बात करें फाइल कंप्रेशन प्रोग्राम कि इस तरह के प्रोग्राम को डिजाइन किया गया है, फाइल की size को कम करने के लिए जिससे कि उपयोगकर्ता को ज्यादा स्टोरेज स्पेस प्राप्त हो सके। आपको बता दें, Windows users के लिए इन compression फाइल्स की usually.zip या .zipx फाइल extension होते हैं। 

आपको बता दें, WinZip, Winrar, 7-Zip यह कुछ windows operating system के लिए सबसे लोकप्रिय फाइल कम्प्रेशन प्रोग्राम्स है, जिनकी मदद से हर एक उपयोगकर्ता डाटा या फाइल को कंप्रेस करने के लिए करता है। 

वही अगर बात करें Mac users की तो उनके लिए फाइल्स को कंप्रेस करने के लिए usually.sit या फिर .sitz format होती है, इनमें RAR Expander, Stuffit Expander & MacZip प्रोग्राम्स ज्यादा इस्तेमाल किए जाते हैं। 

दोस्तों, इस तरह के फाइल कंप्रेशन प्रोग्राम का इस्तेमाल करना एक बहुत ही special तरीका होता है। आपके स्टोरेज space को free करने और दूसरे कंप्यूटर operation को operate करने के लिए। 

3. Disk Management Programs & Diagnostic

वर्तमान समय में जिस तरह से technology बढ़ रही है, और यह हमारे जीवन का हिस्सा बन गई है, ऐसे में इस बात का ध्यान रखना जरूरी है, कि यहां खुद को और अब system को self maintain करें और smooth running करने में मदद करें, user को खुद कंप्यूटर की किसी भी चीज को check करने की आवश्यकता ना पड़े, बल्कि अब कंप्यूटर में built in Diagnostic Management Programs और Disk Management Programs pre-install होते हैं। 

Diagnostic मैनेजमेंट प्रोग्राम्स इस बात का ख्याल रखते हैं, कि सिस्टम सही रूप से काम करें, जिस तरह वह चलनी चाहिए। वही Disk मैनेजमेंट प्रोग्राम्स इस बात का ख्याल रखते हैं, और वहां चेक करते हैं, कि आपकी Hard Drive सही प्रकार से operate हो रही है, या नहीं। इसी के साथ यह प्रोग्राम्स कंप्यूटर को optimally, quickly और effectively, daily basis में run करने में मदद करते हैं।

4. Backup & Recovery Utilities

दोस्तों, अगर आपकी कोई जरूरी फाइल या फिर डाटा corrupt हो जाता है, तो आप समझ सकते हैं, कि आपको कितना भारी नुकसान हो सकता है। ऐसे में अपने फाइल्स या फिर डेटा को सुरक्षित रखने के लिए Backup और Recovery Utilities की जरूरत पड़ती है। इंटरनेट पर आपको बहुत सारे बैकअप यूटिलिटी सॉफ्टवेयर मिल जाते हैं। 

Backup Utilities का काम होता है, कि वह आपके कंप्यूटर में save डाटा का दूसरी जगह एक बैकअप बना देते हैं। अगर क्लाउड स्टोरेज पर डाटा सेव करने की बात करें तो Microsoft OneDrive, DropBox, Google Drive आदि कुछ प्रमुख उदाहरण हो सकते है। 

दोस्तों, Recovery Utility tools की सहायता से delete हुए डाटा को वापस लाया जा सकता है। कंप्यूटर में recycle bin नाम का एक टूल होता है, जो डिलीट हुए डाटा को सुरक्षित रखता है। लेकिन अगर आपने डाटा को recycle bin से भी डिलीट कर दिया है, तो भी डाटा रिकवर करने के लिए आप दूसरे tools का इस्तेमाल कर सकते हैं। 

5. Uninstall & Cleanup Utilities

दोस्तों, आपको बता दे जब हम किसी प्रोग्राम या एप्लीकेशन को डिलीट करते हैं, तो वहां पूरी तरह से डिलीट नहीं हो पाता है। उसका trace सिस्टम में रह जाता है, बहुत सारे instances, program, file, या फिर application के trace आपकी hard drive में रह जाते है।   

और इन्ही traces को दूर करने के लिए यूजर Uninstall Utilities का उपयोग करते हैं। इसके प्रोग्राम आपके हाईड्राइव को स्कैन करते हैं, और सभी unneeded space, memory, या left over remnants को हटा देता है। जो कि उस एप्लीकेशन के रिमूव करने के बाद ड्राई में रह जाते हैं। कई computers में यह operation पहले से ही इंस्टॉल होते हैं, जिससे की यूजर्स आसानी से अपने कंप्यूटर को update और fast कर सकें। 

6. Security Programs

दोस्तों, malware हमारे कंप्यूटर सिस्टम को कई तरीकों से infect करते हैं। जैसे कि- Trozen, ViresesSpyware आदि इन malwares के कारण उपयोगकर्ता को बहुत नुकसान उठाने पड़ते हैं, यहां तक कि कंप्यूटर का डाटा भी चोरी हो जाता है। 

ऐसे मैं अपने कंप्यूटर सिस्टम को malware से बचाने के लिए हमें यूटिलिटीज की जरूरत पड़ती है, ऑनलाइन आने वाले खतरों से security tools हमें सुरक्षा प्रदान करते हैं। इनमें antivirus, firewall आदि शामिल है। 

दोस्तों, अगर हम Windows के कुछ ऐसे पॉपुलर एंटीवायरस प्रोग्राम की बात करें तो इसमें  McAfree, AVG, Kasper sky, Nortan, Microsoft Security Essential or Quick Heal आदि शामिल है। 

इन सबके अलावा नेटवर्क टूल्स को मॉनिटर करने के लिए FireWall का उपयोग किया जाता है। इनका प्रमुख कार्य कंप्यूटर सिस्टम को malware और hacker से सुरक्षा प्रदान करना होता है। 

Utility Software के लाभ (Advantages)

Utility Software या फिर Utility Programs को इस प्रकार से design किया गया है, कि यह आपके कंप्यूटर हार्डवेयर या एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर का संचालन सुचारू रूप से कर सके। बिना Utilities, कंप्यूटर सिस्टम अधूरा है, तो चलिए जानते हैं यूटिलिटी प्रोग्राम के कुछ लाभ-

  • Utilities उपयोगकर्ता को अपने कंप्यूटर में उनके मन मुताबिक dekstop में अन्य सेटिंग्स को customize करने की अनुमति देता है, उदाहरण के लिए Screen Saver .
  • Utilities में कंप्यूटर सिस्टम की Accuracy को बढ़ाने के लिए स्पेशल तरह के फीचर और कार्य ऐड किये होते हैं। 
  • Utilities कंप्यूटर को खतरनाक Software threats जैसे- spyware, viruses, malware आदि से बचाता है। 
  • Utilities कंप्यूटर memoy को मैनेज करने के साथ-साथ उसकी performance capacity को भी बढ़ाता है। 
  • यह, आपको कंप्यूटर की सुरक्षा के लिए password security प्रदान करता है ताकि कोई भी अनजान व्यक्ति आपके कंप्यूटर को access ना कर सकें। 

ज्यादा इस्तेमाल किए जाने वाले Utility Software/Program 

  • Antivirus Programs
  • Backup Software
  • File Manager
  • Screen Saver
  • DirectX
  • Disk Checker
  • Encryption Tools
  • Memory Tester
  • Icon Tools 
  • Fonts
  • System Monitor
  • Application Launchers
  • Cryptography Software 
  • Compression Utilities

इसे भी पढ़े: Computer Network क्या है? जानिए हिंदी में

हमने क्या सीखा

इस पोस्ट के माध्यम से हमने Utility Software क्या है? यह कितने प्रकार के होते हैं? Application Software और Utility Software में क्या अंतर है? और इसके क्या-क्या लाभ है, इनके बारे में जाना। 

उम्मीद है, आपको यह लेख पसंद आया होगा, यदि हां तो इसे अपने दोस्तों और Social Media पर साझा जरूर करें, ताकि वह भी इस विषय में जान सके। 

इसी के साथ यूटिलिटी सॉफ्टवेयर क्या है? से संबंधित अगर आपका कोई सवाल है, या फिर कोई doubt है, या फिर आप चाहते हैं कि इसमें कोई सुधार होने की आवश्यकता है, तो आप कमेंट करके बता सकते हैं। 

Share your love
admin
admin

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम राज प्रजापति है,में कंप्यूटर साइंस का विद्यार्थी हूँ और साथ में ब्लॉग्गिंग भी करता हूँ, में इस ब्लॉग पर टेक्नॉलजी, डिजिटल मार्केटिंग,मोबाइल, कंप्यूटर, ब्लॉग्गिंग, मेक मनी ऑनलाइन जैसे विषयो पर अपने नॉलेज और पूरी रीसर्च के साथ हिंदी में जानकारी शेयर करता हूँ.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *