दोस्तों आज बढ़ती हुई टेक्नोलॉजी और बदलती अर्थव्यवस्था के साथ-साथ MIS के बारे में तेजी से सुनने को मिल रहा है। ऐसे में यहां कुछ रोचक जानकारी दी गई जिसके बारे में जानना बहुत जरुरी है।

Managment Information system (MIS) जिसे हिंदी में “प्रबंधन सूचना प्रणाली” के नाम से जाना जाता है। यह कई तरह की business problems का समाधान पाने के लिए user, technology, और procedure एक साथ मिलकर काम करते हैं, और उसी यूजर, तकनीक और प्रोसीजर के मिलन से बनने वाले सिस्टम को MIS कहा जाता है।

MIS क्या है?

Information system किसी service या business  की एक विस्तृत रणनीति को लागत के रूप में व्यापार में होने वाली समस्याओं को हल करने के लिए Management से जुड़े लोगों द्वारा-

MIS क्या है?

अलग-अलग मानव संसाधन के प्रयोग, व्यवसायिक लेखों और तकनीकी समाधान और उत्पादकों को एक समग्र रूप में नियंत्रण करने और आंतरिक नियंत्रण का Management Information system एक प्रयास है।

MIS क्या है?

मैनेजमेंट इनफार्मेशन सिस्टम किसी सामान्य इंफॉर्मेशन सिस्टम से अलग है, यह उन सभी सूचना प्रणालियों का विश्लेषण करता है, जो किसी संगठन के परिचालन की गतिविधियों से जुड़े हो।

MIS क्या है?

आपको बता दें MIS यानी प्रबंधन सूचना प्रणाली संगठन का प्रमुख उद्देश्य कंपनी के प्रबंधकों को उनके अलग-अलग स्तरों पर जैसे- शिर्ष (Top), मध्य (Middle), और निम्न (lower) आदि पर सूचना उपलब्ध कराना है।

MIS क्या है?

डॉ. जी. बी. डेविस के अनुसार MIS किसी संगठन या व्यापार के संचालन, प्रबंधन और निर्णय निर्धारण के कार्यों में सूचना, सहयोग प्रदान करने के लिए एकत्रित उपयोगिता मशीन प्रणाली है।

Dr. G. B. Devic Says:

– MIS नियमित और अनियमित उद्देश्य को पूरा करने के लिए रिपोर्ट तैयार करने का काम करती है। – मैनेजमेंट के कामों में संलिप्त प्रबंधकों के द्वारा पूछे गए सवालों के उत्तर चिन्हित करने का काम करती है। – MIS अलग-अलग व्यावसाय से जुड़े कामो में महत्वपूर्ण निर्णय लेने में सहायता प्रदान करती है।

MIS के कार्य:

– डिसीजन सपोर्ट सिस्टम (DSS) :- 1970 में कई तरह की रिपोर्ट तैयार करने का कार्य दिया गया था, जिनके प्रबंधकों को प्राय आवश्यकता पड़ती थी। – इंफॉर्मेशन रिर्पोटिंग सिस्टम (IRS):- MIS यानी प्रबंधन सूचना प्रणाली का सबसे पहला रूप इंफॉर्मेशन रिर्पोटिंग सिस्टम को कहा जाता है। इसमें पहले से चयनित सूचना का प्रबंधन होता है।

MIS के प्रकार:

– रुझानों का विश्लेषण करता है। (Analysis) – समस्याओं की पहचान करता है। – डाटा प्रबंधन में मदद करता है। – लक्ष्य निर्धारित करता है।

MIS के लाभ: