Computer full form in hindi, जानिए कंप्यूटर का फुल फॉर्म हिंदी में

Hello दोस्तों, आज हम बात करने वाले हैं, Computer full form in hindi के बारे में। वर्तमान समय में इंटरनेट और टेक्नोलॉजी के रूप कंप्यूटर को कौन नहीं जानता। लेकिन क्या आप यह जानते हैं, कि कंप्यूटर का फुल फॉर्म क्या है? अक्सर यह सवाल कई प्रतियोगी परीक्षाओं और इंटरव्यू में पूछा जाता है, लेकिन जानकारी ना होने के कारण अक्सर लोग जवाब देने से चूक जाते हैं।

computer full form in hindi

आज इंटरनेट पर आपको Computer क्या है? से जुडी कई जानकारियां मिल जाएँगी, लेकिन कंप्यूटर के फुल फॉर्म के बारे में जानकारी बहुत कम लोग डालते हैं, ऐसे में आपका कंप्यूटर के के फुल फॉर्म के बारे में जानकारी होना आवश्यक है। इसी के साथ अगर आपको Computer की उपयोगिता के बारे में नहीं पता तो आपको Uses of computer in hindi लेख जरूर पढ़ना चाहिए। 

दोस्तों, कंप्यूटर का नाम कंप्यूटर इसलिए दिया गया, क्योंकि यह विशेष रुप से सभी “बेसिक अर्थमैटिक ऑपरेशन” को परफॉर्म करता है। तो चलिए अब जानते हैं कि आखिर इस का फुल फॉर्म क्या है? कंप्यूटर का फुल फॉर्म जानने से पहले जानते हैं कि- कंप्यूटर क्या है?

What is Computer- कंप्यूटर क्या है?

दोस्तों Computer एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है, जो सूचना के साथ काम करने के लिए डिजाइन किया गया है। कंप्यूटर शब्द एक संक्षिप्त रूप नहीं है, यह गणन शब्द से मिलकर बना है। जिसका मतलब होता है गणना करना।

कंप्यूटर शब्द लैटिन शब्द Compute से लिया गया है, इसका अर्थ है, गणना करने योग्य मशीन। यह मशीन द्विआधार अंकों की स्प्रिंग के माध्यम से Decimal संख्याओं का प्रतिनिधित्व करती है।

वही आसान शब्दों में कहें तो- कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक उपकरण है, जिसका उपयोग सामान्य तौर पर तेजी से गणना करने के लिए किया जाता है। वही हिंदी में इसे “संगणक” कहते हैं।

इसे भी पढ़े:- BSNL full form in Hindi

Computer full form in hindi 

कंप्यूटर का फुल फॉर्म क्या है?

कंप्यूटर का फुल फॉर्म- “Commonly Operated Machine Particularly Used In Technical and Educational Research”  (कॉमनली ऑपरेटेड मशीन पार्टिकुलरली यूज्ड इन टेक्निकल एंड एजुकेशन रिसर्च) है।

Computer Full Form-

CCommon
OOperating
MMachine
PParticularly
UUsed
TTechnology
EEducation
RResearch

Computer का आविष्कार कब और किसने किया?

दोस्तों, अब सवाल यह उठता है, कि आखिरकार कंप्यूटर को किसने और कब बनाया था। तो चलिए जानते हैं, कि कंप्यूटर का आविष्कार किसके द्वारा और कब हुआ?

दोस्तों आपको बता दें सन 1830 से ही कंप्यूटर बनाने की शुरुआत हो गई थी। उस समय के महान साइंटिस्ट “Charles Babbage” ने इसकी शुरुआत की थी। वे एक ‘एनालिटिकल इंजन’ बनाने की प्लानिंग कर रहे थे, जो कि कंप्यूटर के क्षेत्र में एक शुरुआत थी।

Charles Babbage ने अपने आइडिया पर काम किया और सन 1832 में उन्होंने “डिफरेंस इंजन” का आविष्कार किया और इसे ही दुनिया का पहला Programable कंप्यूटर माना जाता है।

सन 1833 में उन्होंने एक एनालिटिकल इंजन का इंवेंशन किया, जिसे जनरल परपज कंप्यूटर का नाम दिया गया था। लेकिन आर्थिक स्थिति ठीक ना होने के कारण वहां इस काम को पूरा नहीं कर सके।

Charles Babbage की मौत के 40 साल बाद1888 में उनके बेटे Henery Babbage ने इस काम को पूरा किया। आपको बता दें, एनालिटिकल इंजन सभी प्रकार की कैलकुलेशन कर सकता था।

और इस प्रकार कंप्यूटर का अविष्कार हुआ कंप्यूटर की नीव रखने के बाद कई सारे कंप्यूटर अलग-अलग वैज्ञानिकों द्वारा डिजाइन किए गए और उन्हें बाजार में उतारा गया। आज कंप्यूटर के अलावा लैपटॉप भी उपलब्ध है, जिसने हमारे काम को और भी आसान बना दिया है।

Computer को हिंदी में क्या कहा जाता है?

Computer शब्द Compute+R से मिलकर बना है, यह Compute का अर्थ होता है गणना करना और इसमें एक सफिक्स यानी “R” भी है। जिससे यहां बन जाता है, गणना करने योग्य और कंप्यूटर एक मशीन है, इसलिए इसे ‘गणना करने वाला यंत्र’ या ‘संगणक यंत्र’ कहते हैं।

Computer Full Form In Hindi-

सीआमतौर पर
संचालित
एममशीन
पीविशेष रुप से
यूप्रयुक्त
टीतकनीकी
शैक्षणिक
आरअनुसंधान

Computer की विशेषताएं- (Features)

आज कंप्यूटर मानव जीवन का एक अभिन्न अंग बन गया है। हर व्यक्ति अपने हिसाब से इसका उपयोग करता है, कंप्यूटर में अनेक विशेषताएं होती है, जो इसे एक खास मशीन बनाती है। आइए जानते हैं इसकी विशेषताओं के बारे में।

1. Accuracy- (सटीकता)

कंप्यूटर अपने किसी भी काम को पूरी सटीकता (Accuracy) के साथ करता है। कंप्यूटर के द्वारा कोई भी गलती की गुंजाइश नहीं होती। यह हमेशा सटीक परिणाम देता है। क्योंकि कंप्यूटर हमारे द्वारा ही बनाए गए प्रोग्राम के निर्दिष्ट निर्देशकों का पालन करके किसी कार्य को अंजाम देता है।

2. Speed- (गति)

कंप्यूटर की सबसे बेहतरीन विशेषता उसकी गति है, जहां आपको एक छोटी से छोटी कैलकुलेशन करने में समय लगता है, वही कंप्यूटर बड़ी से बड़ी कैलकुलेशन कुछ ही सेकंड में कर देती है। यहां गति कंप्यूटर को उसके प्रोसेसर से प्राप्त होती है, कंप्यूटर की गति को hertz में मापा जाता है। इसकी तीव्रता प्रति सेकंड, प्रति माइक्रोसेकंड, प्रति मिली सेकंड और प्रति नैनो सेकंड में मापी जाती है।

3. Automation- (स्वचालित)

कंप्यूटर की तीसरी विशेषता Automation यानी स्वचालित रूप से काम करना है। एक बार कंप्यूटर को निर्देश देने पर जब तक कार्य पूरा नहीं होता, तब तक वहां स्वचालित रूप से कार्य करता रहता है। उदाहरण के तौर पर कंप्यूटर में किसी एक फोल्डर से फाइल दूसरे फोल्डर में कॉपी करने की कमांड दे, तो वह जब तक सारे फाइल उस फोल्डर में कॉपी नहीं हो जाती, तब तक वह नहीं रुकता है।

कंप्यूटर को जिन कार्य को करने के लिए निर्देश मिलते हैं। उन्ही के आधार पर उनको पूरा करता है। आपको बता दें यहां निर्देश कंप्यूटर को प्रोग्राम सॉफ्टवेयर के द्वारा मिलते हैं, हर एक काम को करने के लिए अलग-अलग सॉफ्टवेयर होता है।

दोस्तों, इनके अलावा कंप्यूटर की और भी कई विशेषताएं है- जैसे Permanent Storage (स्थाई भंडारण क्षमता), Largest Storage Capacity (विशाल भंडारण क्षमता), Quick Dicision (तुरंत निर्णय लेने की क्षमता), Versatility (विविधता), Repetition (पुनरावृति), Uniformity Of Work (कार्य की एकरूपता) आदि।

इसे भी पढ़े:- ED क्या होता है? ed full form in hindi

Computer full form in hindi से जुड़े कुछ प्रश्न और उनके उत्तर FAQs:

प्रश्न:- कंप्यूटर का फुल फॉर्म क्या है, हिंदी में?

उत्तर:- कंप्यूटर को हिंदी में “संगणक” कहा जाता है। कंप्यूटर जो कि एक मशीन है, इसलिए इसे गणना करने वाला यंत्र या संगणक यंत्र भी कहा जाता है।


प्रश्न:- कंप्यूटर कितने प्रकार के होते हैं?

उत्तर:- टेक्नोलॉजी के आधार पर कंप्यूटर चार प्रकार के होते हैं- माइक्रो कंप्यूटर, मिनी कंप्यूटर, मेनफ्रेम कंप्यूटर और सुपर कप्यूटर।


प्रश्न:- कंप्यूटर का पहला नाम क्या था?

उत्तर:- सन 1945 में J.Presper Eckert & John Mauchly के द्वारा दुनिया का पहला इलेक्ट्रॉनिक कंप्यूटर  Electronic Numerical Integrator And Computer (ENIAC) का आविष्कार किया गया था।


प्रश्न:- कंप्यूटर के कितने भाग होते हैं?

उत्तर:- कंप्यूटर- मदरबोर्ड, रेंडम एक्सेस मेमोरी, सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट, रीड ओनली मेमोरी और हार्ड डिस्क या सॉलि़ड स्टेट ड्राइव और सॉफ्टवेयर से मिलकर बना होता है।


प्रश्न:- कंप्यूटर के मुख्य भाग कौन से हैं?

उत्तर:- कंप्यूटर के मुख्य 2 भाग होते हैं- “हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर”। हार्डवेयर में कंप्यूटर के वो पार्ट्स शामिल है, जो दिखाई देते हैं- जैसे माउस, कुंजीपटल, इलेक्ट्रॉनिक सर्किट, मॉनिटर आदि। और सॉफ्टवेयर में कंप्यूटर के आंतरिक भाग आते हैं।


हमने क्या सीखा- (Conclusion)

इस पोस्ट के माध्यम से हमने Computer full form in hindi, कंप्यूटर क्या है? कंप्यूटर की विशेषताओं के बारे में जाना। दोस्तों कंप्यूटर को अभीकलक यंत्र यानी “प्रोग्रामेबल मशीन” भी कहा जाता है। क्योंकि कंप्यूटर प्रोग्रामिंग एक माध्यम है, जिससे आप कंप्यूटर को निर्देश देने के लिए एक प्रोग्राम तैयार करते हैं, और यह प्रोग्राम कंप्यूटर को दिए जाने वाले निर्देश को set करता है। 

उम्मीद है, आपको जानकारी अच्छी लगी होगी। यदि हां, तो इस लेख को अपने दोस्तों और सोशल मीडिया पर साझा जरूर करें, ताकि वह भी इस विषय में जान सकें। साथ ही, अगर आपका इस से जुड़ा कोई प्रश्न है, तो आप हमसे कमेंट करके पूछ सकते हैं। हम आपके प्रश्न का जवाब देने की पूरी कोशिश करेंगे।

Default image
admin

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम राज प्रजापति है,में कंप्यूटर साइंस का विद्यार्थी हूँ और साथ में ब्लॉग्गिंग भी करता हूँ, में इस ब्लॉग पर टेक्नॉलजी, डिजिटल मार्केटिंग,मोबाइल, कंप्यूटर, ब्लॉग्गिंग, मेक मनी ऑनलाइन जैसे विषयो पर अपने नॉलेज और पूरी रीसर्च के साथ हिंदी में जानकारी शेयर करता हूँ.

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.